न्यायालय

जजमेंट का इतिहास बांदा (उत्तर प्रदेश)

जजशिप बांदा को 1958 में झांसी जजशिप से अलग करके बनाया गया था। यह कलेक्ट्रेट बांदा के करीब स्थित है। चार न्यायालय भवन हैं जो निम्नानुसार हैं: –

  1. पुरानी इमारत – इसका निर्माण 1835 में हुआ था जिसे अब हेरिटेज बिल्डिंग घोषित किया गया है। इस इमारत में जिला न्यायाधीश के न्यायालय और कार्यालय चल रहे हैं। कार्यालयों में विभिन्न वर्गों जैसे प्रशासनिक अनुभाग, नजारत, खाता अनुभाग, रिकॉर्ड रूम और प्रतिलिपि अनुभाग आदि शामिल हैं।
  2. मल्टीस्टोरी कोर्ट बिल्डिंग: – इस कोर्ट बिल्डिंग का निर्माण 1983-84 में किया गया था। अतिरिक्त जिला न्यायाधीशों, सिविल जज (एस.डी.) की कई अदालतों, ए.सी.जे.एम. साथ ही सिविल जज (जे। डी।) इसके भूतल और आई टी मंजिल पर चल रहे हैं,जबकि लाइब्रेरी और कई अदालतों के कार्यालय इसकी दूसरी मंजिल पर स्थित हैं।
  3. सी.जे.एम.भवन:- यह न्यायालय भवन न्यायालय परिसर के बीच स्थित है। कोर्ट और मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट का कार्यालय इसमें चल रहा है। कंप्यूटर सेक्शन भी इसी बिल्डिंग का हिस्सा है।
  4. एफ.टी.सी. भवन: – यह न्यायालय भवन जिला न्यायाधीश के हेरिटेज कोर्ट भवन के सामने स्थित कोर्ट कॉम्प्लेक्स के बीच भी स्थित है, जिसमें पाँच कोर्ट रूम शामिल हैं। वर्तमान में, एक अतिरिक्त जिला न्यायाधीश और तीन एडिशनल सिविल जज (जेडी) इस इमारत में काम कर रहे हैं। जिला विधिक सेवा प्राधिकरण का कार्यालय इस भवन के सामने स्थित है।

माननीय जिला न्यायालय बाँदा की वेबसाइट https://districts.ecourts.gov.in/banda